HTTP और HTTPS मे अंतर जाने – HTTP our https kya hai

HTTP our https kya hai
HTTP our https kya hai

दोस्तो अगर अपने कभी internet यूस किया है। तो अपने HTTP our https kya hai के बारे मे तो जरूर ही सुना होगा या फिर अपने इसे किसी website के सुरुवात मे भी देखा होगा। जिस वक्त अपने इस चीज को अपने website के URL मे देखा होगा। तो अपने यह जरूर सोचा होगा की इसे तो मैंने नहीं टाइप किया है। तब यह कहा से आ गया।

इसे हट कर सायद आपके कभी अपने URL के आगे एक lock देखा हो जो कभी खुल जाता किसी website के URL मे तो कभी बंद हो जाता था। किसी URL मे  पर आज आप इस पोस्ट को पढे जिसे आपकी HTTP और HTTPS को लेकर सारी परेशानी खतम हो जाएगी।

HTTP क्या है ( HTTP our https kya hai)

दोस्तो HTTP का Full Form है Hyper Text Transfer Protocol यह एक Application का Protocol है। इसका इस्तेमाल किसी browser के द्वारा किसी hyper text या hyper media की फ़ाइल को HTTP Protocol के under मे रह कर उस फ़ाइल को server के द्वारा भेज पते है।

दोस्तो HTTP Protocol की मदद से client और server के बीच मे connection बन पता है। इसकी मदद से हम पूरे world wide web मे फ़ाइल के डाटा को भेज पते है। HTTP को world wide web का आधार माना जाता है। क्योकि इसी की मदद से आप internet पर किसी भी file को access कर पते है।

HTTP our https kya hai
HTTP our https kya hai

इंटरनेट मे HTTP Protocol Data Transfer करने के लिए port 80 का यूस होता है। इसके अलावा आपको बता दे की  HTTP Protocol Data Transfer की security बहुत ही कमजोर होती है। इसको कोई भी आसानी से ब्रेक कर सकता है।

दोस्तो इंटरनेट पर HTTP Protocol अधिकतर यूस होने वाला protocol है। जिसकी मदद से हम internet को यूस कर पते है। यहा तक HTTPS protocol भी HTTP Protocol का base है। इसके बिना HTTPS  Protocol का कोई महेत्व नहीं है।

HTTP  कम कैसे करता है

HTTP  एक Request response protocol है। जो की client और  server के बीच communication का माध्यम बनाता है इसमे client को browser तथा web-server जैसे की  Apache एक server है।

इसमे server आपके सारे data को store करके रखता है। जब client को किसी file की जरूरत होती है। तो client अपने server के पास request करता है। (अब यहा पर काम आता है HTTP Protocol का जो आपके और server के बीच connection बनाता है।) इसके बाद server आपके request को देखता है। और आपको जिस फ़ाइल की जरूरत होती है, वहा पर आपको पहुचता है।

HTTPS क्या है

दोस्तो HTTPS भी HTTP का अपडेट version ( HTTP our https kya hai ) है। आपको तो पता ही होगा की इंटरनेट पर आज कल डाटा चोरी जैसे कितने कांड हो रहे है। यहा पर HTTP की security बहुत ही कमजोर है। यहा पर आपको कोई बड़ी ही आसानी से hack कर सकता है। इसका इस्तेमाल payment की लेनदेन और secure डाटा को भेजने मे बिलकुल नहीं किया जा सकता।

इस लिए इसे अपडेट करके HTTPS को बनाया गया। जिसका full form है Hyper Text Transfer Protocol secure जो की आपके डाटा को बहुत ही सिक्युर रखता है। क्योकि यह आपके डाटा को Encrypt करके भेजता है। जिसे आपके डाटा को hack करना बहुत मुसकिल हो जाता है।

इसमे आपके data को SSL के द्वारा secure किया जाता है। ताकि आपके डाटा की information कोई भी पता न लगा सके। जब आप इंटरनेट पर कोई website का URL डालते है, तो आपके add bar मे सबसे आगे secure लिखा आता है। green colour के lock icon के साथ जिसे यह पता चलता है की आपका जिस website पर जा रहे है वो secure है।

HTTPS काम कैसे करता है

दोस्तो HTTPS भी HTTP की तरह ही काम करते है। बस फर्क इतना है की यह आपके डाटा को secure करके भेजता है। जब आप कोई डाटा को server से request करते हो तो उस वक्त server उस डाटा को Encryption करके भेजता है। जब वह डाटा आपके पास आता है तो यूसर उस डाटा को decryption करता है। तब आप उस information को collect कर पते हो।

अब आप लोंग ये कहेंगे की हम तो कोई decryption नहीं करते तो आपको बता दु की आप जो password डालते हो तो उसी password से आपका डाटा decryption हो जाता है।

HTTP और HTTPS मे क्या अंतर है
  • HTTP मे URL की सुरुवात http:// के साथ होती है।
  • HTTPS मे URL की सुरुवात https:// के साथ होती है।
  • HTTP मे आपका डाटा secure नहीं रहता।
  • HTTPS मे आपका डाटा secure रहता है।
  • SSL की जरूरत HTTP मे नहीं होती है लेकिन HTTPS मे SSL की जरूरत होती है।
  • HTTP मे data transfer port 80 के द्वारा जाता है। लेकिन HTTPS मे डाटा transfer port 443 के द्वारा होता है।
HTTP का उपयोग करे या नहीं

 दोस्तो यह भी बहुत सारे लोंगों को परेशानी होने वाली है। क्योकि उनको ये नहीं पता की उन्हे HTTP को यूस करना चाहिए या नहीं तो आपको बता दु की अगर आप कोई ऐसी वैबसाइट यूस कर रहे है। जहा पर आपको अपने personal data को shear करना है। वह पर आप इसका उपयोग न करे क्योकि इसे आपके डाटा को चोरी करने का सिलसिला बढ़ जाता है, इसलिए आप कभी भी unsecure website पर अपने डाटा को shear नहीं करना चाइए।

SSL Certificate क्या है

इसका पूरा नाम secure socket layer होता है। जिसका काम होता है client और server के बीच डाटा transfer को secure our encryption करने मे मदद करता है। ताकि कोई तीसरा व्यक्ति आपके डाटा को चुरा न सके। यह आपके डाटा को बहुत ही secure रखता है। इसे खरीदने के लिए आपको इसे online लेना पढ़ता है। फिर उसे एक्टिवेट भी करना पढ़ता है।

इसकी मदद से आपके डाटा को होई भी चुरा नहीं सकता क्योकि इसमे आपको एक key मिलती है। जिसे आप अपने डाटा को encryption और decryption कर पते है।

Read Also –

दोस्तो आज अपने जाना की आप internet security के बारे मे की किस तरह आपको इंटरनेट पर secure रखा जाता है। ताकि आपके डाटा को कोई भी चुरा न सके। अब अगर आपका कोई सवाल है इस पोस्ट को लेकर तो आप हमे comment करे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*